Mantra

वास्तु क्या है ?

आमतौर पर लोग मंत्रो को मात्र कुछ शब्दों की तरह देखते हैं परन्तु वो यह नहीं जानते की इन मन्त्रों की तरंगों में बहुत ताकत होती है। यह कुछ ऐसे-वैसे शब्द नहीं हैं। इन्हे हमारे ऋषि-मुनियों ने सालों की ध्यान साधना द्वारा प्राप्त किया है। मन्त्रों के श्रवण मात्र से हमारी चेतना जाग उठती है ‘मननत त्रायते इति मन्त्रः’ – जब आप इस पर मनन करते हैं, तो आपकी ऊर्जा बढ़ती है। मन्त्रों के अर्थ ज़रूर होते हैं, लेकिन इनका अर्थ केवल हिमशिला के कोने जैसा है। अर्थ इतना ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं है, जितना इन मन्त्रों की तरंगों को महसूस करना है। ब्रह्माण्ड में हर वस्तु दूसरी किसी भी वस्तु को अपनी और आकर्षित करती है। जब आप मंत्रोचारण या हवन करते हैं तों उसका वातावरण पर अत्यंत सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। मन्त्रों के उच्चारण द्वारा वातावरण में सकारात्मक तरंगे फैलती है और उनका श्रवण करने से मन शांत होता है। मंत्र शक्ति एक ऐसी शक्ति है जिसके उच्चारण से बुरी से बुरी समस्या का हल निकाला जा सकता हैं. आइये हम आपको कुछ ऐसे चमत्कारी मंत्रो से अवगत कराते है जो आपकी हर समस्या का समाधान करेंगे.अगर आप एकाग्र होकर मंत्रों को अपनी ज़िंदगी का हिस्सा बना ले और उन पर विश्वास करें तो आप हर समस्या से उबर सकते हैं. चमत्कारी मंत्रों के उच्चारण से असंभव काम को भी संभव किया जा सकता हैं. मूल बीज मंत्र “ॐ” होता है यह सब बीज मंत्र मंत्र की ताकत को बढ़ाते है ॐ, क्रीं, श्रीं, ह्रौं, ह्रीं, ऐं, गं, फ्रौं, दं, भ्रं, धूं,हलीं, त्रीं,क्ष्रौं, धं,हं,रां, यं, क्षं, तं.बीज मंत्र हमें हर प्रकार की बीमारी, किसी भी प्रकार के भय, किसी भी प्रकार की चिंता और हर तरह की मोह-माया से मुक्त करता हैं. अगर हम किसी प्रकार की बाधा हेतु, बाधा शांति हेतु, विपत्ति विनाश हेतु, भय या पाप से मुक्त होना चाहते है तो बीज मंत्र का जाप करना चाहिए. देव बीज मंत्र का उच्चारण करने से सभी देवताओं के दिव्य आशीर्वाद की प्राप्ति होती हैं.दुर्गा बीज मंत्र का उच्चारण करने से दुर्गा माँ ज़िदगी में आई हर रुकावट पर विजय हासिल करने में मदद करती हैं. “क्रीं, मंत्र शक्ति या काली माता का रूप होता हैं. सभी प्रमुख तत्वों जैसे आग, जल, धरती, वायु और आकाश पर विजय पाने के काली माता बीज मंत्र सबसे ज्यादा प्रभावशाली होता हैं. सभी शत्रुओं का नाश करने में भी ये मंत्र सफल होता हैं. बीज मंत्र हमें मोह-माया के बंधनों से मुक्ति दिलवाता हैं. इस मंत्र के उच्चारण से गहरी मानसिक शांति भी पाई जा सकती हैं. यदि इंसान की फोटो पर अलग अलग मन्त्र व कंपन की क्रियाऐं की जाऐं तो दूर बैठे आदमी का इलाज किया जा सकता है। अैसा पुराने समय में ऋषि मुनि हजार मील दूर बैठे व्यक्ति का ईलाज मन्त्रों द्वारा कर देते थे। वैसे भी ईश्वर को किसी ने देखा नहीं पर फिर भी उसकी फोटो या मूर्ति के के आगे की गई प्रार्थना पूरी होती है व ईश्वर की मजूदगी का अनुभव भी होता है। इस सारी प्रक्रिया पर मैने अनुभव किए है व प्रमाण भी मिले हैं। इसी प्रकार मंत्रो के उच्चारण से अपनी बहुत सी समस्याओ का हल निकला जा सकता है. खास कर आर्थिक शरीरिक व् आम जन जीवन से जुडी वो भी एकाग्र व शांत बैठ कर यह करना काफी हद तक सत्य व संभव है। Astrloger Kanchan Pardeep Kukreja