loading

Gemstone

Rahu Ratan Gomed

राहू रत्न गोमेद

विविध नामः

संस्कृत: गोमेद, पिंग, स्फटिक, बाहू रत्न आदि

हिन्दी व पंजाबी: गोमेद

उर्दु व फारसी: जरकूनिया, जारगुन

अग्रेंजी: जिरकोन

भौतिक गुणः कठोरता 7.5, आपेक्षित घनत्व 4.65 से 4.71, पारदर्शक, पारभासक, वर्तनांक 1.93 से 1.98, दुहरा वर्तन 0.006, अपकिरणन 0.048(काफी अधिक)

राहू ग्रह का रत्न गोमेद जिसे अंग्रेजी में जिरकोन कहते है।

गोमेद एक बहुप्रचलित रत्न है। सामान्यतः गोमेद गौ मूत्र के रंग का होता है। जिस व्यक्ति के लिए राहु अनिष्टकारी हो उसे गोमेद धारण करना चाहिए। गोमेद सामान्यतः दो प्रकार का होता है। गोमूत्र के रंग के सामान पीले रंग का तथा कुछ गोमेद रक्ताभ एंव श्यामवर्ण के होते है। सामान्यतः गोमेंद चतुष्कोणिय अर्थात चैकार आकार के होते है। अच्छे गोमेद में पारदर्शिता, स्निग्धता एंव चमक होती है। और गौमूत्र के सामान स्वच्छ दिखाई देता है। गोमेद रत्न धारण करने से पिलिया, गर्मी एंव ज्वर, बवासिर आदि रोगो में लाभ मिलता है। पूर्वाजित पापों को नाश करने की अदभुत शक्ति गोमेद में मानी गई है। गोमेद धारण करने से शत्रु पराजित होते है। यदि बार बार जीवन में व्यवधान आते हो घर गृहस्थी एंव सन्तान की चिन्ताएँ खडी हो जाती है तो गोमेद धारण करना शुभ फलदायक होता है। इसे धारण करने से बाधाँए दूर होती है तथा सुख सम्पति एंव वैभव प्राप्त होता है।
 

उच्तम क्वालिटी के यह रत्न हमारे यहाँ विद्वान पंडितों के द्वारा शुभ महुर्त में शुद्ध व सिद्ध किया गया है यदि आप इसे प्राप्त चाहते है  ( Contact Us)