loading

Gemstone

Shukar Ratan Heera

शुक्र रत्न हीरा

विविध नामः

संस्कृत: वज्र विद्युत, अर्क, भिदुर, शतकोटि, हीरक, अमेद्य, सायन, कुलिश आदि

हिन्दी व पंजाबी: हीरा

उर्दु व फारसी: अल्मास

अग्रेंजी: डायमंड़

भौतिक गुणः कठोरता 10, आपेक्षित घनत्व 3.4, वर्तनांक 2.475, दुहरा वर्तन तथा अनेक वणिता का आभाव, अपकिरणन 0.044, पारदर्शक चमक वाला, यह सबसे कठोर होता है इसे खुरचा नही जा सकता।

शुक्र ग्रह का रत्न हीरा जिसे अंग्रेजी में डायमंड कहते है।

हीरा विश्व की सर्वश्रेष्ठ एंव मूल्यवान वस्तुओं में से एक है। सभी रत्नो में भी हीरे को मूल्यवान एंव महत्वपूर्ण माना जाता है। हीरा धारण करना प्रतिष्ठा का प्रतीक बन गया है। हीरा अत्यन्त कठोर खनिज है। रसायनिक दृष्टि से हीरा शुद्ध कार्बन होता हैं। इसमें कार्बन के अतिरिक्त कोई तत्व नही होता। हीरे को यदि किसी वस्तु के साथ खुरचा जाए तो हीरा अप्रभावित होता है। हीरा सामान्यतः पारदर्शक एंव चमत्कार होता है। किन्तु हीरे विविध रंगो में भी प्राप्त होता है। जैसे लाल, पीले, नीले आदि। हीरे के औषधि लाभ हीरे के भस्म की अनेक औषधीय प्रयोग बताए गए है। शरीर को पुष्ठ करने के लिए हीरे की भस्म उत्तम औषधि के रूप में कार्य करती है। हीरे की भस्म से हृदय रोग, प्रमेह, नपुसंकता, पाण्डु रोग दूर होते है। इसे वीर्यवर्धक माना गया है। हीरे के अन्य लाभ काम क्र्रीडा में अक्षम व्यक्ति को हीरा धारण करने से काम शक्ति प्राप्त होती है। हीरा धारण करने से पति पत्नी के मध्य परस्पर प्रेम बढता है। हीरा समृद्धि का प्रतीक है। इसे धारण करने वाला व्यक्ति निरन्तर समृद्धि प्राप्त करता है। हीरा धारण करने से व्यक्ति को प्रेम में सफलता प्राप्त होती है। जन्म कुण्डली में यदि शुक्र ग्रह पीडि़त कर रहा हो तो हीरा धारण करने से उसकी शांति होती हैं।
 

उच्तम क्वालिटी के यह रत्न हमारे यहाँ विद्वान पंडितों के द्वारा शुभ महुर्त में शुद्ध व सिद्ध किया गया है यदि आप इसे प्राप्त चाहते है  ( Contact Us)