loading

Gemstone

Firoza

फ़िरोज़ा रत्न के फायदे

ग्रहों के बुरे प्रभाव को कम करने के लिए या फिर उन्हें मजबूती प्रदान करने के लिए ज्योतिष शास्त्र द्वारा विभिन्न प्रकार के रत्न प्रदान किए गए हैं। यह रत्न हमारे जीवन को सुधारने और यहां तक कि कई रोगों से लड़ने में भी सहायक सिद्ध होते हैं। ज्योतिष की मानें तो यह रत्न पूर्ण रूप से वैज्ञानिक हैं और निश्चित समय में काम करना आरंभ कर देते हैं। ज्योतिष के रत्नों की बात करें तो नीलम, पन्ना, मूंगा, रूबी, पुखराज जैसे कई रत्न हैं जो प्रसिद्ध भी हैं लेकिन साथ ही काफी महंगे भी हैं। किंतु इनका असर काफी बेहतरीन होता है। परंतु इनके अलावा भी कई ऐसे रत्न हैं जिन्हें भले ही उपरत्न या सस्ते रत्न कहा जाता है लेकिन इनका असर काफी तेज होता है। आज इन्हीं में से एक रत्न के बारे में हम आपको यहां बताने जा रहे हैं जिसे प्रेम संबंधों को सही बनाने के लिए जाना जाता है। यह है फिरोजा रत्न, फिरोजी रंग (जिसमें गहरा नीला, आसमानी और कई बार हरा रंग भी मिला हुआ होता है) का यह रत्न प्रेम संबंधों के संबंध में ही सबसे ज्यादा जाना जाता है। इसके अलावा इसे रोगों को काटने वाला भी बताया गया है।

सबसे पहले जानते हैं इस रत्न की खासियत... एस्ट्रोलॉजी के अनुसार फिरोजा रत्न धनु और मीन राशि (चंद्र राशि) वालों को जरूर पहनना चाहिए। इसके अलावा वे लोग जिनकी कुंडली में बृहस्पति ग्रह कमजोर हो, उन्हें भी यह रत्न धारण करना चाहिए। यह बृहस्पति ग्रह को मजबूती प्रदान करता है। इसकी दूसरी खासियत यह है कि यह प्रेम संबंधों को सुधारने के काम आता है। यदि प्रेमी-प्रेमिका के बीच परेशानी चल रही हो या पति-पत्नी में कोई अनबन हो, तो फिरोजा रत्न के प्रयोग से दो अंगूठियां बनवाएं और शुभ मुहूर्त में एक-दूसरे को पहनाएं। यह रत्न धीरे-धीरे रिश्ते सुधार देता है। इसके अलावा यदि किसी मित्र के साथ या परिवार के किसी सदस्य के साथ मतभेद चल रहे हों तो उन्हें फिरोजा रत्न किसी भी रूप में बनवाकर भेंट कर दें। रिश्ते पहले की तरह अच्छे हो जाएंगे। फिरोजा की तीसरी खासियत यह है कि यह रत्न कई तरह के रोगों को काटने का काम करता है, विशेष रूप से दिल से जुड़ी बीमारियों को ठीक करने के लिए इस रत्न का प्रयोग किया जाता है। इसके अलावा आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए और गुर्दे संबंधी रोगों से भी निजात दिलाता है यह रत्न जिन्हें रक्तचाप (उच्च या कम) जैसी कोई भी दिक्कत रहती हो और उसका इलाज सफल नहीं हो रहा है, उन्हें भी ज्योतिष सलाह लेने के बाद फिरोजा रत्न धारण करना चाहिए। इसके अलावा यह रत्न बुरी नजर से भी व्यक्ति की रक्षा करता है। फिरोजा रत्न को पहनने वाले के भीतर आत्म विश्वास बढ़ता है। यह रत्न उसके आसपास की बुरी ऊर्जा को दूर कर उसे सकारात्मक सोच प्रदान करता है। इतना ही नहीं, इस रत्न को पहनने वाले भूत-प्रेत जैसी बुरी शक्तियों से भी बचे रहते हैं। जिनकी कुंडली में राहु या केतु का कोई भी दोष हो, उस दोष को शांत करने का रामबाण उपाय है फिरोजा रत्न। ऐसे लोग किसी अच्छे ज्योतिष की सलाह से फिरोजा अवश्य धारण करें। फिरोजा रत्न मार्केट में आसानी से उपलब्ध हो जाता है और इसे पंच धातु या फिर चांदी की अंगूठी में पहना जाता है। अगर आपको फिरोजा का ब्रेसलेट या लॉकेट बनवाना हो तो इससे पहले ज्योतिषी की सलाह ले लें।

उच्तम क्वालिटी के यह रत्न हमारे यहाँ विद्वान पंडितों के द्वारा शुभ महुर्त में शुद्ध व सिद्ध किया गया है यदि आप इसे प्राप्त चाहते है  ( Contact Us)