loading

Gemstone

Surya Ratan Manik (Ruby)

सूर्य रत्न मानिक्य

विविध नामः

संस्कृत: मानिक्य, पद्मनाग, लौहित, शोण रत्न, रविरत्न, शोणोपल, कुरूविन्द, सोगंधिक, वासु रत्न आदि

हिन्दी व पंजाबी: मनिक्य, मानक, चुन्नी

उर्दु व  फारसी: याकूत

अग्रेंजी: रूबी

भौतिक गुण: कठोरता 9, आपेक्षिक घनता 4.03, वर्तनांक 1.716- 1.77, दुहरार्वतन 0.008, द्विवर्णिता तीव्र, रसायनिक रचना एल्यूमिनियम आक्साइड

सूर्य ग्रह का रत्न मानिक्य जिसे अंग्रेजी में रूबी कहते है।

यह एक मूल्यवान एंव पारदर्शी लाल रंग का पत्थर होता है। इसमें चमक भी होती है। हीरे के बाद यह सबसे कठोर रत्न होता है। जिन व्यक्तियों की कुण्डली में सूर्य ग्रह योगकारक होकर निर्बल हो तो उन्हे माणिक्य धारण करने से लाभ होता है।

माणिक्य के औषधीय लाभ

माण्क्यि रत्न दीर्घायु कारक है। इसे धारण करने से शरीर के रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है। वात, पित, कफ, ज्वर, विष जख्म आदि के निवारण हेतु माण्क्यि का प्रयोग शीघ्र फलदायक होता है। माणिक्य के अन्य लाभ माणिक्य धारण करने वाले व्यक्ति का मन बुराईयों और अनैतिक कार्यो की और आकर्षित नही होता। विपत्ति आने से पूर्व माण्क्यि अपना रंग बदल देता है। माणिक्य धारण करने से आत्म बल में वृद्धि होती है तथा व्यक्ति का मान सम्मान बढता है। उच्चपद प्राप्ति एंव प्रतिष्ठा दिलाने में माणिक्य रत्न विशेष भूमिका निभाता है।
 

उच्तम क्वालिटी के यह रत्न हमारे यहाँ विद्वान पंडितों के द्वारा शुभ महुर्त में शुद्ध व सिद्ध किया गया है यदि आप इसे प्राप्त चाहते है 

Astrologer Kanchan Pardeep Kukreja

Divya Jyoti Astro And Vaastu